रहाणे के बाद अब बोलैंड को मिला 'द मुलाग मेडल' जानें क्या है खासियत

आपको बता दें कि इस मेडल की शुरूआत 2020 में ही हुई थी. पहली बार ये मेडल अंजिक्य रहाणे को मेलबर्न में मिला था. उन्होंने उस टेस्ट की पहली पारी में 223 बॉल पर 112 रन की पारी खेली थी. इस दौरान उन्होंने 12 चौके जड़े थे.

ऑस्ट्रेलिया (Australia) के लिए डेब्यू करने वाले स्कॉट बोलैंड (Scott Boland) ने इस मैच में सात विकेट लेकर धमाका कर दिया है. दूसरी पारी में बोलैंड ने सिर्फ 4 ओवर गेंदबाजी की और 7 रन देते हुए 6 गेंदबाजों को आउट किया है. पहली पारी में उनको एक ही विकेट हासिल हुआ था. उनको इस में प्लेयर ऑफ द मैच के अलावा मुलाग (The Mullagh Medal) मेडल से भी सम्मानित किया है. बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (मैन ऑफ द मैच) को द मुलाग पदक दिए जाने की शुरुआत साल 2020 से हुई थी.

Also Read:Gujarat Giants vs Dabang Delhi KC | Match 13 | PKL 8 News

आपको बता दें कि इस मेडल की शुरूआत 2020 में ही हुई थी. पहली बार ये मेडल अंजिक्य रहाणे को मेलबर्न में मिला था. उन्होंने उस टेस्ट की पहली पारी में 223 बॉल पर 112 रन की पारी खेली थी. इस दौरान उन्होंने 12 चौके जड़े थे. इसके बाद दूसरी पारी में रहाणे ने 40 बॉल पर नाबाद 27 रन बनाए और टीम को जीत दिलाई. मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 70 रन का टारगेट दिया था.

कैसे रखा गया इस मेडल का नाम

इस मेडल का नाम 152 साल पहले ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रहे जॉनी मुलाग (Jonny Mullagh) के नाम पर रखा गया. मुलाग 1868 में पहली बार विदेश दौरे पर जाने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान थे. टीम का यह इंग्लैंड दौरा था. मुलाग ने अपने करियर में 45 टेस्ट की 71 पारी में 1698 रन बनाए थे. गेंदबाजी में भी उनके नाम 257 विकेट हैं. मुलाग ने 1866 में मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर एक बॉक्सिंग-डे टेस्ट भी खेला था. इस मेडल पर पहली बार विदेशी दौरे पर जाने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की फोटो लगी हुई है.


Download our App for more Tips and Tricks

SHARE

FB TW TW TL ML COPY
Link Copied