SA vs IND जाने क्यों कहते है २६ दिसम्बर टेस्ट को बाक्सिंग डे टेस्ट मैच

बाक्सिंग डे टेस्ट मैच में आस्ट्रेलिया की टीम के सामने इंग्लैंड की टीम है जबकि एक अन्य बाक्सिंग डे टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका को भारत का सामना करना है। इससे पहले जान लीजिए कि आखिर बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का आयोजन क्यों होता है।

SA vs IND

भारतीय टीम को रविवार से सेंचुरियन में तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला मेजबान साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेलना है, जबकि मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड यानी एमसीजी में आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच एशेज सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच जारी है। इन दोनों ही टेस्ट मैचों को बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का दर्जा दिया गया है। बाक्सिंग डे टेस्ट मैच क्या है और इसका आयोजन क्यों होता है, इसके बारे में आप इस खबर में जान जाएंगे।

क्रिसमस (25 दिसंबर)

दरअसल, क्रिसमस (25 दिसंबर) के एक दिन बाद 26 दिसंबर से जो मैच खेला जाता है, उसे बाक्सिंग डे मैच कहा जाता है। सिर्फ क्रिकेट ही नहीं, बल्कि कई और खेल भी बाक्सिंग डे पर खेले जाते हैं। स्पोर्टिंग मैच (26 दिसंबर) को ज्यादातर आस्ट्रेलिया, कनाडा, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में आयोजित कराया जाता है और ये एक पारंपरिक मैच होता है। वहीं, क्रिकेट के लिहाज से इस दिन आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच खेले जाते हैं, जिसे बाक्सिंग डे टेस्ट कहा जाता है।

Also Read:SA vs IND Dream11 Team Prediction, Fantasy Cricket Tips

ऐसा कहा जाता है कि क्रिसमस डे पर जो बिना छुट्टी लिए काम करते हैं, उन्हें अगले दिन बाक्स के रूप में गिफ्ट दिया जाता है और साथ ही उन्हें इस दिन पर परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए अवकाश दिया जाता है। यही चलन क्रिकेट में भी देखने को मिलता है, जब बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का आयोजन किया जाता है। ऐसा एक दो या साल या फिर कुछ दशक से नहीं, बल्कि 100 साल भी ज्यादा समय से बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का आयोजन होता आ रहा है।

बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का इतिहास

ऐसा कहा जाता है कि क्रिसमस डे पर जो बिना छुट्टी लिए काम करते हैं, उन्हें अगले दिन बाक्स के रूप में गिफ्ट दिया जाता है और साथ ही उन्हें इस दिन पर परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए अवकाश दिया जाता है। यही चलन क्रिकेट में भी देखने को मिलता है, जब बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का आयोजन किया जाता है। ऐसा एक दो या साल या फिर कुछ दशक से नहीं, बल्कि 100 साल भी ज्यादा समय से बाक्सिंग डे टेस्ट मैच का आयोजन होता आ रहा है।

Also Read:आज के दिन बनाया था सबसे तेज T20I शतक ठोकने का रिकार्ड

दरअसल, क्रिकेट की बात करें तो बाक्सिंग डे मैच की परंपरा आस्ट्रेलिया में शुरू हुई थी, जब घरेलू टीम विक्टोरिया और न्यू साउथ वेल्स (एनएसडब्ल्यू) के बीच 26 दिसंबर 1856 को एक मैच खेला गया था। वह मैच अपने आप में एक यादगार मैच बन गया, जब एनएसडब्ल्यू ने तीन विकेट से जीत दर्ज की थी। वहीं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहला बाक्सिंग डे टेस्ट मैच 1950 में आयोजित हुआ था, जब एमसीजी में आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की भिड़ंत हुई थी।


Download our App for more Tips and Tricks

SHARE

FB TW TW TL ML COPY
Link Copied