India vs England 1st Test, Day 4: चौथे दिन का खेल खत्म, भारत 1 पर 52 रन, अब बनाने हैं 157 रन

India vs England 1st Test, Day 4: इंग्लैंड की दूसरी पारी चायकाल के करीब डेढ़ घंटे बाद 303 रन पर खत्म हुई. और इस तरह उसने भारत का पहली पारी का 70 रन का कर्ज उतारते हुए कुल 208 रन की बढ़त हासिल की. इंग्लैंड को यह बढ़त दिलाने में कप्तान जो. रूट के बनाए 109 रनों का बहुत ही ज्यादा योगदान रहा. इंग्लैंड के बल्लेबाजों को दूसरे छोर पानी पिलाने में फॉर्म में लौटे जसप्रीत बुमराह का बड़ा योगदान रहा, जिन्होंने पांच विकेट लिए. सिराज और शार्दूल को दो-दो, जबकि शमी को एक विकेट मिला.

नॉटिंघम: England vs India 1st Test, Day 4: इंग्लैंड और भारत के बीच नॉटिंघम में खेले जा रहे पहले टेस्ट के चौथे दिन भारत ने इंग्लैंड से जीत के लिए मिले 209 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए दिन के खेल की समाप्ति पर 1 विकेट खोकर 52 रन बना लिए हैं. और यहां से कल रविवार को आखिरी दिन भारत को मैच जीतने के लिए 157 रन और बनाने हैं और उसके हाथ में 9 विकेट शेष हैं. रोहित शर्मा और चेतेश्वर पुजारा दोनों ही 12-12 रन बनाकर क्रीज पर हैं. आखिरी सेशन में भारत जमकर खेल रहे अपने ओपनर केएल राहुल (26) के रूप में पहला विकेट भी गंवा दिया है, जिन्हें ब्रॉड ने बहुत ही शानदार गेंद पर विकेट के पीछे बटलर के हाथों लपकवा कर चलता गिया. फिलहाल रोहित के साथ पुजारा क्रीज पर हैं. इंग्लैंड की दूसरी पारी चायकाल के करीब डेढ़ घंटे बाद 303 रन पर खत्म हुई. और इस तरह उसने भारत का पहली पारी का 70 रन का कर्ज उतारते हुए कुल 208 रन की बढ़त हासिल की. इंग्लैंड को यह बढ़त दिलाने में कप्तान जो. रूट के बनाए 109 रनों का बहुत ही ज्यादा योगदान रहा. इंग्लैंड के बल्लेबाजों को दूसरे छोर पानी पिलाने में फॉर्म में लौटे जसप्रीत बुमराह का बड़ा योगदान रहा, जिन्होंने पांच विकेट लिए. सिराज और शार्दूल को दो-दो, जबकि शमी को एक विकेट मिला.

दूसरा सेशन: रूट की बैटिंग और भारतीय सीमरों की उम्दा बॉलिंग

दूसरा सेशन का खेल बहुत ही अहम रहा. और इस सेशन को रूट बनाम भारतीय सीमर कह दिया जाए, तो एक बार को गलत नहीं ही होगा. इंग्लिश कप्तान तो इस लड़ाई में बाजी मारने में सफल रहे, लेकिन डोस सिबली (28), जॉनी बैर्यस्टो (30) और लॉरेंस (25) बुमराह और शार्दूल ठाकुर से पार नहीं पा सके. इंग्लैंड के पहलू से निराशाजनक बात यह रही कि ये तीनों ही बल्लेबाज पिच पर निगाहें जमने के बाद आउट हुए और इसके लिए ठाकुर और बुमराह की तारीफ बनती है. बहरहाल, लंच से चायकाल तक रूट ने एक छोर पर जिम्मेदारी और बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड को मजबूत करने के लिए वह सब किया, जो वह कर सकते थे. चायकाल के समय इंग्लैंड का स्कोर 5 विकेट पर 235 रन था. तब रूट 96 और बटलर 15 रन बनाकर क्रीज पर जमे हुए थे.

पहला सेशन: गिरे दो विकेट और इंग्लैंड बैकफुट पर

सुबह चौथे दिन इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने अपने स्कोर बिना नुकसान के 25 रन से आगे खेलना शुरू किया. राहत की बात यह रही कि चौथे दिन बारिश से अड़ंगा नहीं डाला, लेकिन इंग्लिश टॉप बल्लेबाज पिच पर नहीं टिक कर खेल सके. वहीं पहले सेशन में इंग्लिश बल्लेबाजों ने बैटिंग भी धीमी की. एक वजह तो भारतीयों की गेंदबाजी भी अच्छी रही, दूसरा बल्लेबाजों ने पिच पर टिकने को जोर दिया. पर जोर देने के बावजूद न रॉरी बर्न्स की ही चली और न ही जैक क्रॉले. ये दोनोें ही विकेट इतने कम अंतराल पर गिरे कि इसने रूट और खासकर डोम सिबली को दहला सा दिया. डोम सिबली तो पूरी तरह बैकफुट पर आ गए. यही वजह रही कि लंच तक 25 ओवरों मे 2 विकेट पर 62 ही रन बना सका.

Also Read:नीरज चोपड़ा के गोल्ड मेडल जीतते ही बना नया रिकॉर्ड, 125 साल के इतिहास में पहली बार ओलंपिक में भारत को 7 मेडल


Download our App for more Tips and Tricks

SHARE

FB TW TW TL ML COPY
Link Copied