Tokyo Olympics: भारतीय महिला हॉकी 'टीम सेमीफाइनल में अर्जेंटीना से 1-2 से हारीं, अब कांस्य पदक की लड़ाई लड़ेगी

Tokyo Olympic: ओलंपिक के सेमीफाइनल में भारतीय महिला हॉकी टीम को अर्जेंटीना ने 1-2 से हराकर फाइनल में जगह बना ली है.

Tokyo Olympic: ओलंपिक के सेमीफाइनल में भारतीय महिला हॉकी टीम को अर्जेंटीना ने 1-2 से हराकर फाइऩल में जगह बना ली है. चौथे क्वार्टर में दोनों टीम की ओर से एक भी गोल नहीं हो पाया.हार के बाद भी भारतीय महिला टीम के पास मेडल जीतने का मौका है. भारतीय महिला टीम ब्रॉन्ज मेडल के लिए ग्रेट ब्रिटेन के साथ खेलेगी. पहले क्वार्टर में भारतीय टीम ने आक्रमक खेल दिखाया और शुरूआत में गुरजीत कौर ने गोल करके भारत को बढ़त दिला दी थी. लेकिन इसके बाद अर्जेंटीना की टीम ने मुकाबले में वापसी की. दूसरे क्वार्टर और तीसरे क्वार्टर में गोल दागकर अर्जेंटीना की टीम भारत से मुकाबले में आगे हो गई. बता दें कि हाफ टाइम के बाद से अर्जेंटीना ने भारत पर दवाब बनाया और जल्द ही दूसरा गोल दागकर भारत पर बढ़त बना ली. दूसरा गोल अर्जेंटीना ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए हासिल करने में कामयाबी पाई. इसके बाद भारतीय टीम के पास गोल बनाने का मौका नहीं मिला. हालांकि चौथे क्वार्टर में दोनों टीमों से में किसी भी टीम की ओर से गोल नहीं हो पाया. आखिर में अर्जेटीना की टीम 2-1 से सेमीफाइनल मैच जीतने में सफल हो गई. 6 अगस्त को भारतीय महिला टीम ग्रेट ब्रिटेन के साथ ब्रान्ज मेडल मैच खेलेगी.

दूसरी ओर एक तरफ जहां भारतीय पहलवान रवि कुमार बुधवार कुश्ती स्पर्धा के पुरूषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में कजाखस्तान के सानायेव नूरीस्लाम को हराकर तोक्यो ओलंपिक के फाइनल में पहुंचे को वहीं दीपक पूनिया 86 किलोग्राम वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में यूएसए के मौरिस डेविड टेलर से 10-0 से हार गए हैं. रवि दहिया ने भारत के लिए कम से कम रजत पदक पक्का किया. लवलीना बोरगोहेन का सेमीफाइनल में तुर्की की बॉक्सर बुसेनाज़ सुरमेनेली से हार गई हैं लेकिन ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम में सफल रहीं. लवलीना भारत की तीसरी बॉक्सर बनीं हैं जिनके नाम ब्रॉन्ज मेडल जीतने का कमाल दर्ज है. मैरी कॉम और विजेंदर सिंह ने ओलंपिक में बॉक्सिग में ब्रान्ज मेडल जीता था. आज भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women Hockey Team) का सेमीफाइनल है इसके अलावा पदक की उम्मीद नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) से भालाफेंक प्रतियोगिता (Javelin throw) में हैं. नीरज ने अपने अभियान का आगाज शानदार तरीके से किया है. उन्होंने अपने पहले ही राउंड में 86.65 मीटर का थ्रो करके फाइनल में जगह बना ली. क्वालीफिकेशन मार्क के लिए नीरज को 83.50 मीटर से ज्यादा की दूरी तय करनी थी. उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर भाला थ्रो करके फाइनल के लिए क्वालीफाई कर लिया है.


Download our App for more Tips and Tricks

SHARE

FB TW TW TL ML COPY
Link Copied