Fifa World Cup 2022, दुनिया का सबसे बड़ा फीफा महाकुंभ 10 दिलचस्प बातें

By Akshay - November 22, 2022 05:02 PM

Fifa World Cup 2022, दुनिया का सबसे बड़ा फीफा महाकुंभ- 10 दिलचस्प बातें

ये आख़िरी मौक़ा होगा जब वर्ल्ड कप में दुनिया की 32 टीमें हिस्सा लेंगी. क्योंकि 2026 में अमेरिका, मैक्सिको और कनाडा में होने वाले वर्ल्ड कप में टीमों की संख्या 32 से बढ़कर 48 हो जाएंगी. 1930 में उरूग्वे में खेले गए वर्ल्ड कप में सिर्फ़ 13 टीमों ने हिस्सा लिया था

दो दिनों बाद 20 नवंबर से शुरू होने वाले फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप (Fifa World Cup 2022) के लिए 32 टीमें कतर पहुंच गई हैं. दुनिया भर के फ़ुटबॉल फ़ैंस 20 नवंबर से लेकर 18 दिसंबर तक 29 दिनों तक इस महासमारोह में स्टेडियम जाकर या फिर टीवी और इंटरनेट के ज़रिये 64 मैचों के ज़रिये अपनी चैंपियन टीम से उम्मीद करते रहेंगे. एक नज़र डालते हैं मौजूदा वर्ल्ड कप की 10 ऐसी दिलचस्प बातों पर जो आपके लिए इस वर्ल्ड कप के दौरान आपकी रुचि बढ़ाए रख सकती हैं-

10 दिलचस्प बातें

1. ये पहला मौक़ा है जब अरब देशों को फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप के आयोजन का मौक़ा दिया गया है. 1930 में उरुग्वे (द.अमेरिका) में पहले वर्ल्ड कप के आयोजन के बाद 2002 में पहली बार इस टूर्नामेंट ने एशिया (द.कोरिया और जापान) का सफ़र तय किया. 2022 में दूसरी बार यानी फ़ीफ़ा के 22वें वर्ल्ड कप की मेज़बानी किसी एशियाई देश को मिली है.

2. ये आख़िरी मौक़ा होगा जब वर्ल्ड कप में दुनिया की 32 टीमें हिस्सा लेंगी. क्योंकि 2026 में अमेरिका, मैक्सिको और कनाडा में होने वाले वर्ल्ड कप में टीमों की संख्या 32 से बढ़कर 48 हो जाएंगी. 1930 में उरूग्वे में खेले गए वर्ल्ड कप में सिर्फ़ 13 टीमों ने हिस्सा लिया था. पहले वर्ल्ड कप के फ़ाइनल में मेज़बान उरुग्वे ने अर्जेन्टीना को 4-2 से हराकर अपना पहला ख़िताब जीता था. 1934 में इटली में हुए दूसरे वर्ल्ड कप से लेकर 1978 में अर्जेन्टीना में हुए 11वें वर्ल्ड कप तक टीमों की संख्या घटते-बढ़ते 16 तक पहुंच गई. स्पेन में हुए 12वें वर्ल्ड कप से लेकर 1994 में अमेरिका में हुए 15वें वर्ल्ड कप तक फिर 24 टीमों के बीच मुक़ाबले होते रहे. फ़्रांस में हुए 16वें वर्ल्ड कप से लेकर कतर में होने वाले 22वें वर्ल्ड कप में टीमों की संख्या 32 रहेगी.

3. इस बार 5 एशियाई टीमें टूर्नामेंट का हिस्सा हैं. कतर को ग्रुप-A, ईरान को ग्रुप-B, सउदी अरब को ग्रुप-C, जापान को ग्रुप-E और द.कोरिया को ग्रुप-H में जगह मिली है. ईरान ने पहली बार 1978 में एशियाई टीम के रूप में शिरकत की. इसके बाद ईरान ने 2002, 2006 और 2010 में भी वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया. चीन ने 2002 वर्ल्ड कप में ग्रुप स्टेज तक का सफ़र तय किया था. ऑस्ट्रेलिशिया ग्रुप से ऑस्ट्रेलिया समेत अबतक 13 टीमों ने वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया है. 2002 वर्ल्ड कप में द.कोरियाई टीम चौथे नंबर पर रही थी जो किसी भी एशियाई देश का अबतक का बेस्ट प्रदर्शन रहा है.

4. भारत को भी एक बार 1950 वर्ल्ड कप खेलने का मौक़ा मिला था. लेकिन भारत इस वर्ल्ड कप में शिरकत नहीं कर सका. इसके पीछे आर्थिक तंगी से लेकर नंगे पांव खेलने की ज़िद जैसी कई वजहें बताई जाती हैं. लेकिन उसके बाद भारत के लिए वर्ल्ड कप खेलना सपने जैसा ही रहा है. भारत की मौजूदा वर्ल्ड रैंकिंग 106 है और टॉप 48 टीमों में शामिल होना भारत के लिए फ़िलहाल दूर की कौड़ी है.

5. पांच बार की चैंपियन और 21 में से 9 बार टॉप 3 टीमों में रहने वाली ब्राज़ील को इस बार भी दुनिया भर के कई एक्सपर्ट्स चैंपियन की तरह देख रहे हैं. विलियम हिल और लैडब्रोक जैसे सट्टाबाज़ारों में भी सबसे ज़्यादा ब्राज़ील का ही दबदबा है. सट्टाबाज़ार में इस बार बार्ज़ील के अलावा अर्जेंटीना, फ़्रांस, इंग्लैंड और स्पेन को भी ख़िताब का मज़बूत दावेदार माना जा रहा है.

6. सट्टाबाज़ार में इस बार टूर्नामेंट के गोल स्कोरर पर भी जमकर दांव लगाया जा रहा है. माना जा रहा है कि इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन, फ़्रांस के हुनरमंद किलियान एमबापे और करीम बेंज़ेमा, अर्जेन्टीना के जीनियस लियोनेल मेस्सी, पुर्तगाल के सुपरस्टार खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो और ब्राज़ील के बेहतरीन नेयमार टूर्नामेंट के टॉप स्कोरर साबित हो सकते हैं.

7. अर्जेन्टीना के लियोनेल मेस्सी (उम्र 35 साल, 165 मैच, 91 गोल), पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो (उम्र 37 साल, 191 मैच, 117 गोल), ब्राज़ील के नेयमार (उम्र 30 साल, 121 मैच, 75 गोल), उरुग्वे के लुइस सुआरेज़ (उम्र 35 साल, 134 मैच, 68 गोल) और एडिन्सन कावानि (उम्र 35 साल, 133 मैच, 58 गोल), क्रोएशिया के लुका मॉर्डिच (उम्र 37 साल, 155 मैच, 23 गोल), जर्मनी के गोलकीपर मैनुअल न्यूअर (उम्र 36 साल, 114 मैच) और पुर्तगाल के मिडफ़ील्डर पेपे (उम्र 39 साल, 128 मैच, 7 गोल) जैसे सितारो के लिए ये आख़िरी वर्ल्ड कप साबित हो सकता है.

8. इस बार कतर के 8 स्टेडियम में 64 मैच खेले जाएंगे. दोहा का लुसैल स्टेडियम सबसे बड़ा स्टेडियम है. ये 2021 में बनकर तैयार हुआ है और इसकी क्षमता 80,000 है. फ़ाइनल भी लुसैल में ही खेला जाएगा. जबकि, अल बायत स्टेडियम में उद्घाटन समारोह और उद्घाटन मैच का आयोजन होगा.अल बायत स्टेडियम की क्षमता 60,000 है. स्टेडियम 974 को वर्ल्ड कप के बाद पूरी तरह से नष्ट कर दिया जाएगा.

9. दुनिया में 200 से ज़्यादा देश फ़ुटबॉ़ल खेलते हैं. लेकिन अबतक सिर्फ़ 8 टीमों ने और 6 बार मेज़बान टीमों ने वर्ल्ड कप का ख़िताब जीता है. ब्राज़ील ने सबसे ज़्यादा 5 बार, जर्मनी और इटली ने 4-4 बार, अर्जेन्टीना, फ़्रांस और उरूग्वे ने 2-2 बार ख़िताब जीते हैं, जबकि इंग्लैंड और स्पेन ने 1-1 बार ये ख़िताब अपने नाम किया है.

10. वर्ल्ड कप के दौरान करोड़ों भारतीय फ़ैंस पर भी क्रिकेट की तरह ही फ़ुटबॉल का बुखार चढ़ जाता है. ऐसे भारतीय फ़ैंस चाहें तो फ़ीफ़ा रैंकिंग के लिहाज़ से भी इस टूर्नामेंट पर नज़र रख सकते हैं. फ़ीफ़ा रैंकिंग के मुताबिक दुनिया की टीप 10 टीमें इस प्रकार हैं- ब्राज़ील-1, बेल्जियम-2, अर्जेन्टीना-3, फ़्रांस-4, इँग्लैंड-5, इटली-6, स्पेन-7, हॉलैंड-8, पुर्तगाल-9 और डेनमार्क-10.


Download our App for more Tips and Tricks